पहली लेस्बियन चुदाई

नमस्ते सभी को अाज में आपनी पहली चुदाई जो कि एक लेस्बियन सहेली ने की थी. मुझे कॉलेज के हॉस्टल में भरती किया तब वहाँ बहुत सारी लड़कियाँ थीं, जो पढ़ाई करने के लिए अलग-अलग राज्यों से आई हुई थीं।
मुझे एक गर्ल्स-हॉस्टल में कमरा मिला और मेरी रूम-पार्टनर अनीशा थी। हमारे रूम में एक बड़ा सा बेड था। उस पर तीन लोग आराम से सो सकते हैं।
अनीशा बहुत खुले विचारों वाली लड़की थी। मुझे उसका अन्दाज अच्छा लगता था। हम एक-दूसरे में बहुत जल्दी घुल-मिल गए। हमारा घूमना-फिरना शुरू हुआ, मौज-मजा मस्ती बहुत करने लगे।
अचानक कुछ हॉस्टल के दोस्तों से उसकी एक कमजोरी मुझे पता चल गई कि वो लेस्बियन है। यह सुनकर तो मैं घबरा गई कि अब क्या होगा और एक रात ऐसा ही हुआ, जिसका डर था।
खाना खाकर हम बेड पर सोने चले गए। रात के दस बजे थे, मेरी आँख लग गई और मैं सो गई। मैंने रात के बारह बजे के करीब मेरे शरीर में कुछ हलचल महसूस की, मैं जाग गई तो देखा कि अनीशा मेरे टॉप के ऊपर से मेरे मम्मे दबा रही थी और एक चूस रही थी। मैं चौंक गई और अनीशा को परे धकेल दिया, पर वो दोबारा से शुरू हुई और मेरे साथ जबरदस्ती करने लगी।
मैंने उसे बहुत रोकने की कोशिश की, पर कोई फायदा नहीं हुआ। उसने मेरे हाथों को ऊपर की ओर करके बाँध दिया।
अब तो मैं पूरी बेबस हो गई। फिर वो मेरे ऊपर आई और मेरे होंठों को चूमने लगी। उससे मेरे पूरे शरीर में करंट सा लगा, मेरी चूत में पानी आने लगा क्योंकि मेरे साथ यह पहली बार हो रहा था।
अनीशा मुझे चुम्बन करते-करते मेरे मम्मे भी दबाते जा रही थी, पर मैं क्या करती, मेरे हाथों को उसने बाँधा हुआ था। थोड़ी देर में मुझे भी अच्छा लगने लगा, तो मैं भी उसका साथ देने लगी।
उसे पता चल गया कि मुझे अब मजे आने लगे तो उसने मेरे टॉप के बटन खोल दिए और मेरी ब्रा के ऊपर से मेरे दोनों चूचुकों को चूसने लगी।
अब मेरे होश तो ही उड़ने लगे और मेरी चूत गीली हो गई।
धीरे से अनीशा ने मेरे पीछे हाथ डाला और मेरी ब्रा के हुक खोल दिए और खुद पूरी नंगी हो गई।
मुझे अब शर्म आने लगी कि मेरे मम्मे नंगे थे। वो नंगी होकर मेरे ऊपर आ गई और मेरे चूचुकों को चूसने लगी।
मुझे कुछ हो रहा था, वो मेरे चूचुकों को चूसे जा रही थी, मैं तो पागल सी हुई जा रही थी। चूचुकों को चूसते-चूसते वो नीचे की ओर चली गई और मेरी नाईटी उतार दी और पैन्टी भी, मैं तो बहुत लाज महसूस कर रही थी कि मैं अब पूरी नंगी थी।
अब वो आगे बढ़ी और मेरी चूत चूसने लगी, उसने थोड़ा सा चूसा और मैं झड़ गई।
मैं पहली बार झड़ने का आनन्द महसूस कर रही थी, मैं जैसे ही झड़ गई, तो मेरी पूरी ताकत खत्म हो गई और मैं बेड पर निढाल सी हो गई।
थोड़ी देर बाद उसने मेरे हाथों को खोल दिया तो मैं उससे चिपक गई और उसका आभार किया, तो वो भी मेरे मम्मों को जोर से दबा कर हँस पड़ी।
मेरे मम्मे और चूचुक दर्द कर रहे थे।
थोड़ा आराम करने के बाद वो मुझसे बोली- चलो, एक और बड़ी मस्ती दिखाती हूँ तुझे..!
तो मैंने भी ‘हाँ’ कर दी और वो फ़िर से शुरू हुई। मुझे चुम्बन किया, मेरे चूचुकों को चूसे और चूत चूसने लगी और एक उंगली मेरी चूत में डालने लगी थी, तो मैं चिल्लाई क्योंकि मैं अभी तक कुँवारी थी, मुझे दर्द हो रहा था।
मैंने उसे मना किया, पर वो कहाँ मानने वाली थी। वो जोर से उंगली करने लगी। मैं दर्द के मारे तड़फड़ाने लगी, पर तब भी वो कहाँ रूकने वाली थी, उसने और एक उंगली अन्दर डाली, तो मैं और जोर से दर्द के मारे तड़फड़ाने लगी।
फ़िर वो अचानक से उठी और मेरे ऊपर आकर जोर से चुम्बन करने लगी और और चूचुकों दांतों से चबाने लगी, मैं भी उसका साथ देने लगी।
फ़िर वो मुझसे अलग हो गई और अपने बैग में से कुछ निकाला और वाशरूम में चली गई और थोड़ी देर बाद बाहर आई तो मैंने उसके कमर पर कुछ पट्टा देखा और उसे कुछ लन्ड जैसा लाल रंग का डिल्डो था। वो शायद दस इन्च का होगा।
अब अनीशा मेरे पास आ गई। मैं उसे देखकर डर गई, मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि क्या हो रहा है।
अनीशा मेरे पास आई और उस लन्ड को मेरे मुँह में ठूँस दिया, मैं उसे मजे से चूसने लगी।
थोड़ी देर चूसने के बाद वो मेरे दोनों पैर फ़ैला कर मेरे चूत को निशाना करके रूक गई और बोली- आसमान की सैर करने के लिए तैयार हो जाओ।
और उसने मेरी चूत को निशाना पर लिया और जोर देने लगी। एक इन्च अन्दर जाते ही मैं दर्द के मारे कराह उठी, तो वो मेरे ऊपर लेट गई और मुझे चुम्बन करने लगी और लण्ड अन्दर दबाने लगी।
अब तक पाँच इन्च अन्दर गया होगा शायद, तो मेरे आँखों से आँसू आने लगे और उसे निकालने को कहने लगी।
तो वो थोड़ा रूक गई और मेरे चूचुकों को चूसने लगी।
उससे मैं थोड़ी उत्साहित हुई और मेरा दर्द कम हुआ, तो फ़िर से अनीशा ने जोर लगाना शुरू किया।
चुम्बन करते-करते उसने कब दस इन्च का डिल्डो मेरी चूत में पेल दिया, पता ही नहीं चला और चुम्बन करते-करते ही उसने मुझे चोदना शुरू किया। जैसे-जैसे उसके धक्के लगते, तैसे-तैसे मुझे लगता जैसे मैं हवा में उड़ रही हूँ।
दस मिनट की चुदाई के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाली हूँ तो अनीशा मेरे एक निप्पल को चूसने लगी और एक को दबाने लगी। उसके साथ मैं एक रात में दूसरी बार झड़ गई और निढाल होकर बेड पर पड़ी रही।
उसने भी मुझे चोदना बन्द किया और मेरे चूचुकों से खेलने लगी।
थोड़ी देर आराम करने के बाद मैं खड़े रहने की कोशिश कर रही थी, पर दर्द हो रहा था। बेड पर खून पड़ा हुआ था और अनीशा मेरी तरफ़ देख कर हँसने लगी।
जैसे-तैसे मैं बाथरूम में गई और फ़्रेश हुई और आकर बेड पर नंगी ही सो गई। मेरा ये पहला सेक्स था तो अनीशा ने मुझे ज्यादा तंग नहीं किया और वो भी सो गई।
सुबह के 5 बजे आँख खुली तो अनीशा को मैंने एक और बार चोदने को कहा, तो उसने मुझे फिर से चोद दिया।
उस दिन के बाद से मुझे लेस्बियन सेक्स में मजा आने लगा और हम दोनों रोज चुदाई करने लगे और मैंने भी चुदाई करना सीख लिया। इस तरह हम रोज खेल खेलते रहे और मजे करते रहे।
धीरे-धीरे हम हॉस्टल की लड़कियों को भी लेकर ग्रुप-सेक्स का मजे लेने लगे।

Comments